Skip to main content

उत्तराखंड जागेश्वर धाम चितई गोलू देवता की यात्रा

माघ का महीना था और हम लोगों ने सोचा था की बागेश्वर के माघ मेले में जायेंगे | जैसे प्रयागराज में माघ मेला लगता है एक माह का वैसे ही उत्तराखंड में भी १ माह का माघ मेला बागेश्वर में लगता है जहां पर की दो नदियों का संगम है | लेकिन जैसे भोले बाबा को अपने पास बुलाना था तो प्रोग्राम बागेश्वर से जागेश्वर का हो गया | हमारे इष्ट मित्र विपुल जी इस कार्य में हमारे निमित्त बने और साथ ही इस यात्रा से उनका भी एक मन का भार हल्का हो गया |एक ज़रा से बच्ची आरती भी हमारे साथ चल पड़ी |
सुबह सुबह ८ बजे यात्रा का प्रारंभ हुआ और एक विशेष प्रकार की खिचड़ी जिसे मेथी खिचड़ी कहा जाता है और जो की सर्दियों के लिए बहुत अच्छी होती है वो खाने को मिली | विपुल जी को पर्वतीय मार्गों पर भ्रमण का बहुत वर्षों का अनुभव है अतः चिंता की कोई बात नहीं है सोच कर मैं सो गया था |
कुछ देर में आवाज़ से नींद खुली तो देखा की हमारे नीचे बादल बह रहे थे | एक क्षण को लगा की कहीं कार पलट तो नहीं गयी लेकिंग तुरंत ही चैतन्यता वापस आ गयी | ऐसा अद्भुत द्रश्य जीवन में पहले कभी नहीं देखा था |



वहाँ से आगे बढे तो चितई आया जहां पर गोलू देवता का मंदिर है | गोलू देवता को न्याय का देवता बोला ही नहीं माना भी जाता है और उनके मानने वाले पूरे विश्व में असंख्य उत्तराखंडी ही नहीं अनेक लोग हैं | उनको न्याय का देवता इसलिए कहा जाता है की अगर कोई किसी के साथ गलत करता है और उस व्यक्ति को बहुत बुरा लग जाता है तो वह व्यक्ति इस मंदिर में आकर अर्जी देता है की मेरे साथ गलत हुआ है और कुछ ही दिन में जिसने गलत करा होता है उसको उसके करे का परिणाम भुगतना पड़ता है | ऐसा होता ही है | गोलू देवता से लोग बहुत प्रेम तो करते ही हैं उनसे बहुत डरते भी है और साथ ही भरोसा भी साँसों की तरह ही करते हैं |
मान्यताओं के अनुसार गोलू देवता स्वयं शिव जी के रूप अथवा अवतार हैं | कुमाऊं के इश्वर स्वयं शिव हैं और गोलू देवता उनके अवतार हैं , लेकिन कुछ का मानना है की गोलू देवता चंद राजा बाज बहादुर जिनका शासन काल १६३८ से १६७८ तक था उनकी सेना में सेनापति थे | एक युद्ध में वे वीरगति को प्राप्त हुए थे और उनकी याद में यह मंदिर बनाया गया था | यह मंदिर अल्मोड़ा से ८ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है | हर वर्ष अनेक लोग इस मंदिर में न सिर्फ दर्शन के लिए आते हैं बल्कि अपनी अर्जी कागज़ पर लिख कर लाते हैं , बहुत से श्रद्धालु स्टाम्प पेपर पर भी बाकायदा सील ठप्पे लगवा कर नोटरी करवा कर अपनी फ़रियाद यहाँ पर लगाते हैं |







विपुल जी आरती और सुधा जी चितई गोलू देवता मंदिर उत्तराखंड
इसको घंटियों वाला मंदिर भी कह सकते है क्योंकि यहाँ लाखों घंटियाँ तंगी हुई हैं | यहाँ घंटी चढाने की मान्यता है और सभी श्रद्धालु यहाँ पर घंटियाँ चढाते हैं | आपका भी कोई काम नहीं हो पा रहा किसी प्रकार की समस्या है जो कहीं से भी दूर नहीं हो पा रही है और आप हताश हो चुके हैं तो मेरी सलाह है की आप यहाँ एक बार अवश्य आयें |
यात्रा अभी समाप्त नहीं हुई थी अभी तो हमको वहाँ से भी आगे जागेश्वर धाम जाना था सो हम सब निकल पड़े | लेकिन पता चला की विपुल जी की बहुत समय से गोलू देवता जी के मंदिर आने की इच्छा थी | उनके मन में कोई बात थी जो वो करना चाह रहे थे और आज के दिन उनके मन का भी कुछ बोझ हल्का हो गया|

तो सभी एक दूसरे के निमित्त मात्र हुए और बुलाने वाले चितई गोलू देवता और जागेश्वर धाम के शिव जी हुए|

बहुत ही खतरनाक और जोखिम भरी सड़क से होते हुए हम किसी प्रकार से जागेश्वर धाम पहुँच ही गए और मैंने इश्वर का धन्यवाद करा की वाहन मैंने नहीं चलाया नहीं तो न ही कोई पहुँच पाता और वापस आने का प्रश्न ही नहीं होता | सभी इश्वर के पास आत्मा रूप में पहुँच चुके होते |

जागेश्वर धाम पहुँच कर मन में जो आनंद और भक्ति का समागम हुआ उसके लिए कोई शब्द ही उपयुक्त नहीं प्रतीत होता है | पौड़ी गढ़वाल उत्तराखंड के ताड़केश्वर  मंदिर की अनुभूति यहाँ भी हुई | शिव जी के सभी स्थान ऊंचे पहाड़ों पर ही होते हैं और क्यों होते हैं ये जब आप वहां पहुँच जाते हैं तभी आपको इसका पता लगता है | मन एक शांत चित्त होकर स्थिर हो जाता है | कोई विचार अपना प्रवाह नहीं बना पाता और मन में सिर्फ शिव जी छवि घर कर जाती है |

जागेश्वर धाम लगभग १०० मंदिरों का समूह है जो कि बहुत छोटे छोटे मंदिर हैं | यह मंदिर सातवीं से बारवीं शताब्दी के बीच के माने जाते हैं | विकीपीडिया के अनुसार "भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के अनुसार इन मंदिरों के निर्माण की अवधि को तीन कालों में बांटा गया है। कत्यरीकाल, उत्तर कत्यूरीकाल एवं चंद्र काल। बर्फानी आंचल पर बसे हुए कुमाऊं के इन साहसी राजाओं ने अपनी अनूठी कृतियों से देवदार के घने जंगल के मध्य बसे जागेश्वर में ही नहीं वरन् पूरे अल्मोडा जिले में चार सौ से अधिक मंदिरों का निर्माण किया जिसमें से जागेश्वर में ही लगभग २५० छोटे-बडे मंदिर हैं। मंदिरों का निर्माण लकडी तथा सीमेंट की जगह पत्थर की बडी-बडी shilaon से किया गया है। दरवाजों की चौखटें देवी देवताओं की प्रतिमाओं से अलंकृत हैं। मंदिरों के निर्माण में तांबे की चादरों और देवदार की लकडी का भी प्रयोग किया गया है|"

यहाँ बहुत सारे मंदिर हैं और कुबेर मंदिर है , अन्नपूर्णा देवी का मंदिर है और ढेर सारे शिव मंदिर हैं | जब भी आप जाएँ तो ध्यान रखें की वाहन की सुविधा अत्यंत आवशयक है जिस से की आप मंदिर के एकदम पास तक जा सकें | बस का प्रयोग करने से अच्छा होगा की आप टैक्सी किराए पर ले लें और अगर आपके पास अपना वाहन है तो फिर कोई बात ही नहीं है |









जागेश्वर धाम अल्मोड़ा उत्तराखंड कैसे पहुंचे : 

रेल : दिल्ली से शताब्दी, रानी खेत, और संपर्क क्रांति एक्सप्रेस चलती हैं जो आपको काठगोदाम स्टेशन तक लेकर आती हैं | इसके आगे रेल नहीं है | यहाँ से आपको ढेर सारी बस टैक्सी शेयर टैक्सी मिल जाती हैं |  आपको यह ध्यान रखना है कि आने जाने की व्यवस्था काठ गोदाम से ही कर के चलें | बीच में से करेंगे या एक तरफ की ही गाडी करेंगे तो आपको समस्या हो सकती है | अतः सावधानी रखें |आप अल्मोड़ा में जाकर रुक सकते हैं और वहां से आगे की व्यवस्था कर सकते हैं |

बस: आपको नई दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे से हल्द्वानी के लिए अनेक बसें मिल जायेंगी जो की हल्द्वानी उतार देंगी | आप अल्मोड़ा की बस लेकर सीधे अल्मोड़ा भी जा सकते हैं और वहां होटल आदि में रुकने की व्यवस्था कर के अल्मोड़ा से टैक्सी आदि ले सकते हैं और यह आपको अधिक सस्ता भी पड़ सकता है | 

वायु : अल्मोड़ा के नजदीकी हवाई अड्डा, एक प्रसिद्ध कृषि विश्वविद्यालय पंतनगर में स्थित है, जो जागेश्वर से लगभग १६७ और अल्मोड़ा से लगभग 127 किलोमीटर दूर है।

कब जायें : अगर आप सावन का महीना छोड़ देंगे तो आपका ही भला होगा क्योंकि आप भीड़ से बच जायेंगे लेकिन लोग यहाँ सावन के महीने में ही आते हैं और शिव जी का अभिषेक करते हैं | इस मंदिर की बहुत ही अधिक मान्यता है |

उत्तराखंड देवभूमि है | यहाँ के कण कण में सिद्ध पुरुषों की ऊर्जा आप महसूस कर सकते हैं | यहाँ अनेक मंदिर हैं और सिद्ध तपस्वियों के स्थल हैं | देव भूमि उत्तराखंड में आपका स्वागत है |

जागेश्वर धाम की कहानी, जागेश्वर धाम कैसे पहुंचे, जागेश्वर धाम अल्मोड़ा ,वृद्ध जागेश्वर, गोलू देवता जागर,
गोलू देवता कथा, चितई गोलू देवता मंदिर ,





 

Comments

Popular posts from this blog

नीम करोली महाराज जी का बुलावा: काकडी घाट मंदिर पर भंडारा १७.११.२०१९

(यह हिंदी गूगल से अनुवादित है और जहां मुझे गलती लगी वहां मैंने ठीक करने का प्रयास करा है फिर भी गलती रह ही गयी होगी जिसके लिए मैं अभी से क्षमा प्रार्थी हूँ )

(https://www.indiastroreiki.com/2019/11/neeb-karori-maharaj-calling-come-to.html) The original article in English

अपने सभी ब्लॉगों की तरह, मैं यह भी आश्वस्त करना चाहता हूं कि मैं जो भी कहूंगा, वह  सत्य होगा और अगर कोई त्रुटि / असत्य / झूट हो तो मैं महाराज जी से क्षमा मांगता हूं। 

कई साल पहले 2012 या 13 में, मुझे सही से याद नहीं है और कोई ज़रूरत नहीं है, मैं कोलर रोड भोपल के पास काली मंदिर गया, मुझे भूख लग रही थी, उन दिनों मैं "योगी कथामृत" में डूबा हुआ था और देवी जी  से बात कर रहा था । एक परिवार ने आकर माताजी को प्रसाद चढ़ाया। मुझे भूख लगी थी और मैंने माँ से कहा, आपने योगानंद जी को इतना कुछ दिया है कि क्या आप मुझे खाने के लिए सिर्फ कुछ दे सकती  हैं, और अगले ही पल, मैं अपनी आँखों को ठीक से झपका भी नहीं सका, मंदिर की महिला ने मुझे प्रसाद दिया। मैं  खुशी से भर गया और मेरे अंदर आनंद आ गया और मुझे वह घटना याद आ गई…

दिल्ली विधान सभा चुनाव २०२० कौन मारेगा बाजी : ज्योतिषीय आकलन

(यह लेख मेरे मूल अंग्रेजी लेख का गूगल हिंदी अनुवाद है मूल लेख के लिए यहाँ क्लिक करें   who will win 2020 delhi vidhan sabha election)

for horoscope consultation wattsapp only 7566384193 आज नई दिल्ली में चुनाव की तारीखें घोषित कर दी गई हैं। मुख्य प्रतियोगी AAP, BJP, INC हैं और मज़ेदार हैं कि वे न केवल वर्णानुक्रम में सही हैं, बल्कि वास्तविक स्थिति भी नई दिल्ली में हैं। आइए हम सभी तीनों पक्षों के बारे में कुछ बात करते हैं और मेरी यह "बात" केवल मीडिया समाचार रिपोर्टों पर आधारित है और मेरे विचार बिल्कुल व्यक्तिगत नहीं हैं।

इसलिए, AAP के साथ शुरू करने के लिए अब आम आदमी या आम आदमी के लिए बहुत कुछ किया जा रहा है और वे अपने चुनावी वादों को लागू करने में बहुत सफल रहे हैं जैसा कि उनके फेस बुक पोस्ट और समाचार विज्ञापनों में बताया गया है। इसलिए मैं कहूंगा कि वे काम कर रहे हैं और अब जब मैं मीडिया को देखता हूं और लोग सामाजिक व्यस्तताओं पर बात करते हैं तो मैं इस पार्टी AAP के बारे में एक सकारात्मक शब्द सुनता हूं।

दूसरी पार्टी में आना, जो कि भाजपा है जो पहले से ही केवल 6 राज्यों में हार गई…

Neeb Karori Maharaj Calling :Come to kakdi ghat and have my bhandara

Like all of my blogs, I want to reassert that what ever I will say will be the truth to best of my knowledge and if there are any errors I beg to Maharaj ji to forgive me.  

hindi mein padhne ke liye yahaan click karein

Many yearsNeeem Karoli Baba Books By Amazon back in 2012 or 13, I do not remember correctly and there is no need to, I went to Kali temple near kolar road bhopal, I was feeling hungry, those days I was immersed in Autobiography of a Yogi and was talking to Goddess Kali ji. A family came and offered prasad to Mataji. I was hungry and I said to Maa, you gave so much toNeeem Karoli Baba Books By Amazon yoganand ji can`t you give me just something to eat, and the next moment, I could not even blink my eyes properly, The lady in the temple Took the thali and offered the prasad to me. I was all tears joy and bliss came out inside of me and I remembered the incident when Paramhans Yoganandji goes to kali ji temple with his brother in law and his brother in law mocks at the …