Skip to main content

नीम करोली महाराज जी का बुलावा: काकडी घाट मंदिर पर भंडारा १७.११.२०१९




(यह हिंदी गूगल से अनुवादित है और जहां मुझे गलती लगी वहां मैंने ठीक करने का प्रयास करा है फिर भी गलती रह ही गयी होगी जिसके लिए मैं अभी से क्षमा प्रार्थी हूँ )

(https://www.indiastroreiki.com/2019/11/neeb-karori-maharaj-calling-come-to.html) The original article in English

अपने सभी ब्लॉगों की तरह, मैं यह भी आश्वस्त करना चाहता हूं कि मैं जो भी कहूंगा, वह  सत्य होगा और अगर कोई त्रुटि / असत्य / झूट हो तो मैं महाराज जी से क्षमा मांगता हूं। 

कई साल पहले 2012 या 13 में, मुझे सही से याद नहीं है और कोई ज़रूरत नहीं है, मैं कोलर रोड भोपल के पास काली मंदिर गया, मुझे भूख लग रही थी, उन दिनों मैं "योगी कथामृत" में डूबा हुआ था और देवी जी  से बात कर रहा था । एक परिवार ने आकर माताजी को प्रसाद चढ़ाया। मुझे भूख लगी थी और मैंने माँ से कहा, आपने योगानंद जी को इतना कुछ दिया है कि क्या आप मुझे खाने के लिए सिर्फ कुछ दे सकती  हैं, और अगले ही पल, मैं अपनी आँखों को ठीक से झपका भी नहीं सका, मंदिर की महिला ने मुझे प्रसाद दिया। मैं  खुशी से भर गया और मेरे अंदर आनंद आ गया और मुझे वह घटना याद आ गई जब परमहंस योगानंदजी अपने जीजा के साथ काली जी मंदिर जाते हैं और उनके जीजा जी ने देवी जी का मजाक बनाया कि अगर देवी उनकी इतनी देखभाल करती हैं तो वह हमारे खाने की व्यवस्था भी करेंगी क्या ? और तुरंत ही मंदिर के पुजारी महोदय आते दीखते हैं  और कहते है कि सभी के लिए पर्याप्त भोजन है क्योंकि यह किसी कारण से उस दिन बना था और यह सब  का भोजन आराम से हो सकता है। उस दिन के बाद से उनके जीजा भक्त बन गए  और क्रिया योग के एक उच्च कोटि के साधक बने।
17.11.2019 को काकड़ीघाट उत्ताराखंड में आज मेरे साथ ऐसा ही कुछ हुआ
 यह नवंबर 2019 की 13 तारीख थी, मैं उस दिन किसी कारण से कैंची धाम में था और श्री दीपक नामक व्यक्ति से मिला। वह बहुत व्यस्त दिख रहे  थे और मैं जो कुछ कह रहा था उसका पालन करने के मूड में नहीं थे क्योंकि उसके आसपास के लोग सब्जी पैक कर रहे थे और मैंने उत्सुकता से पूछा कि यह सब क्या है और उसने कहा कि यह काकड़ी घाट पर भंडारे के लिए है। जाहिर तौर पर मैंने पूछा कि यह कब है और मुझे बताया गया कि यह 16 और 17 नवंबर को है और इसका आयोजन कैंची धाम  मंदिर ट्रस्ट और स्थानीय दुकानदारों ने मिलकर किया था।
"भगवान की कृपा से ही आपको भगवान की याद आती है" - रमन महर्षि

मैं  16 और 17 वीं तारीख को वहां जाने की योजना बना रहा था, लेकिन दूरी और समय की कमी के कारण मैंने फैसला किया कि मैं 17 तारीख को वहां रहूंगा। मैं 12  बजे की  में बस में चढ़ गया था और मेरे दिमाग में सिर्फ खाने को लेकर उत्सुकता थी और कोई दूसरा विचार बिल्कुल नहीं था। बस कुछ ही मिनटों के बाद एक ऐसी जगह पर रुकी, जहाँ ये बसें दोपहर के भोजन के लिए रुकती थीं और ड्राइवर ने यहाँ केवल 30 मिनट कहा। मैं भूखा था। मैं नीचे उतर गया, वहाँ एक और बस आगे खड़ी थी और अचानक वह शुरू हो गई। तो मैंने कंडक्टर से पूछा कि यह काकड़ी घाट जायेगी या नहीं और उसने कहा हां और मैं अंदर था।

मैं १२:३० बजे वहाँ पहुँच गया और मैं  मैंने केवल भोजन के बारे में कहा। बहुत से लोग खा रहे थे और मैं भी उनके साथ शामिल हो गया। मैं सोच रहा था कि मैं समय से हूँ , लेकिन मुझे नहीं पता था कि मैं वास्तव में किस समय हूं और बाद में इसका खुलासा होना था।



मैंने भरपेट भोजन करा मोटापे के कारण नीचे बैठ कर पूरा नहीं खाया जाता फिर भी मैं महाराज जी के भंडारे में जन्मो के भूखे जैसे ही खाता हूँ | लोग वहां अपनी थाली स्वयं खाने के बाद फेंकने जा रहे थे | मैं फेंकने के  क्षेत्र में अपनी थाली फेंकने के लिए उठने ही वाला था कि एक वृद्ध व्यक्ति आये और मुझसे पूछा कि मैं मेरा भोजन हुआ की नहीं और मैंने कहा हाँ और उन्होंने  मेरी प्लेट ले ली !!! मैंने उनसे ऐसा न करने के लिए कहा क्योंकि यह अच्छे शिष्टाचार में नहीं है कि लेकिन वे नहीं माने  मैं सुंदरकांड सुन रहा था जो कि कैंची धाम मंदिर की प्रसिद्ध जोड़ी द्वारा गाया जा रहा था।


"दो वृद्ध लोग हैं जिनसे मैं व्यक्तिगत रूप से नहीं मिला हूं, लेकिन वे एक साथ मंदिर में हनुमान चालीसा और अन्य पाठ गाते हैं और वर्षों से ऐसा कर रहे हैं। वे इतने उत्साह और आवृत्ति में हैं कि उन्हें सुनना भी एक आनंद है। वे इसमें इतने डूब जाते हैं कि मेरे जैसे सामान्य व्यक्ति के लिए यह असंभव है। अगर आप कैंची धाम
उत्तराखंड में आते हैं तो उनको अवश्य सुनिए , वे इसे आमतौर पर शाम को करते हैं। "


जब कभी वे गाते हैं तो आपके सामने होने वाली पूरी घटना को महसूस करते हैं, आप इसे बिना किसी बल या दृढ़ता अथवा परिश्रम  के कल्पना कर सकते हैं। वही मेरे साथ हो रहा था, श्री राम चरित मानस सुंदरकांड की कुछ चौपाइयाँ हैं जो मुझे बहुत पसंद हैं और मैं उन्हें पूरे कान और दिल से सुनने का इंतजार कर रहा था। मैं सोमवारी महाराज मंदिर की ओर गया और वहीं बैठ गया। और कुछ समय बाद मैंने उन चौपाइयों को सुना और कुछ भी अधिक आवश्यक नहीं था।



भंडारे में चल रहे सुंदर काण्ड की झलक यहाँ सुनें
 और भी कुछ होने वाला था।

मैं नीचे बने शिवजी के मंदिर में गया और वहीं बैठ गया। एक यज्ञ चल रहा था और पुजारी सभी के सिर पर सिंदूर लगा रहे थे । और पवित्र धागा वहाँ हर एक की दाहिनी कलाई पर बाँधा जा रहा था। मैं मंदिर की सीढ़ियों पर बैठा था। और मेरे मन में यह विचार आया कि महाराज जी जब आप मुझे यहां लेकर आए हैं तो यह भी आप ही करेंगे और जैसा कि मैं सोच रहा था कि एक सज्जन ने टीका की थाली ली और मेरी ओर मुखातिब हुए और अहंकार ने मुझे घेर लिया। अगले ही पल उन्होंने मुँह फेर लिया। (इस एक क्षण में जो हुआ वो सिर्फ मुझे ही समझ आया मेरे मन में अहम् का आना उन सज्जन का मेरी तरफ मुड़ना एक पल देखना और मुह मोड़ लेना - इस किसी शब्द में नहीं समझाया जा सकता सिर्फ महाराज जी की लीला को महसूस करा जा सकता है  जैसे वानर बने हुए नारद जी को सिर्फ वही राजकुमारी और शिव के गण  जो वहां उपस्थित थे  वोही देख पाए )और हँसी मेरे चेहरे और दिमाग में आ गई। 


आज मैं राम चरित मानस का पाठ कर रहा था और नारद का प्रसंग आज समाप्त हो गया जहाँ नारद के अहंकार को मारने के लिए भगवान विष्णु उन्हें वानर का मुख देते हैं। और मैं केवल महाराज जी को धन्यवाद दे रहा था कि वह मुझे हर जगह अपनी उपस्थिति दिखाते रहे  और मैं वहाँ बैठ गया और जब मैं सामान्य स्थिति में आया, तो एक और सज्जन आये जो कि मुझे जानते थे किन्तु वह मुझसे आम तौर पर बात नहीं करते है,और वो पता नहीं कहाँ से आ गए  वह यज्ञ की भस्म की थाली लेकर आये और मेरे माथे पर उसका टीका लगाया। मैं अवाक था!!! कुछ मिनटों के बाद एक और व्यक्ति जो मुझे नहीं जानता था वह सिन्द्दोर चावल की  थाली ले आये और पूछा कि क्या मुझे टीका चाहिए और मैंने कहा हाँ :-)

ये महाराज जी की लीलाएं हैं और कुछ नहीं। जब आपके पास कोई ईगो प्राउडनेस नहीं है और बस सादगी है तो महाराजजी आपकी ही हैं।


"निर्मल मन जान मोहि पावा मोहे कपट छल छिद्र न भावा" महाराज जी ने मुझे बहुत ही सरल तरीके से समझाया। और यह हमेशा उनकी ही जिम्मेदारी है की वे मुझे सदा  बिना "कपट छल छिद्र" के रखें क्योंकि हम कभी नहीं जानते कि बुरी भावनाएं हमें कब खत्म कर देंगी, आप या मैं कोई अपवाद नहीं हैं।


मुझे नहीं पता कि क्या कहना है और क्या लिखना है, आज मेरे दिमाग में बहुत सारी बातें आ रही थीं। अगर मुझे और याद होगा तो मैं इस ब्लॉग में जोड़ूंगा।
 


  
 कैसे पहुँचे काकड़ी घाट उत्तराखंड: काकड़ी घाट, भवाली से लगभग 37 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जैसा कि उत्तराखंड रोडवेज के सरकारी सड़क परिवहन विभाग के दूरी बोर्ड में बताया गया है। आपको काठगोदाम रेलवे स्टेशन पर उतरने की आवश्यकता है और वहाँ से आपको कई शेयर टैक्सी, फुल टैक्सी, बसें मिलेंगी- यह अल्मोड़ा जाने के लिए राजमार्ग पर स्थित है इसलिए अल्मोड़ा जाने वाली कोई भी बस वहाँ से जाएगी, बस कंडक्टर को ड्रॉप करने के लिए कहेंगे आप काकड़ी घाट जाना  हैं और वह आपको उतार देंगे , साथ ही 12 से 15 बैठने की क्षमता वाली शेयर जीप भी हैं।

शुल्क: टैक्सी में लगभग 1 k से 1.5 k, शेयर टैक्सी में 300 लगेगा, बस में 100 लगेंगे, शेयर  जीप में 130 -140 कुछ लगेगा। आप बस छोड़ कर बाकी सब में मोल भाव भी कर सकते हैं |


अगर आप कैंची या ककड़ी घाट या प्रयागराज या वृन्दावन या महरोली या गुप्त मंदिर जाना चाहते हैं और कुछ मार्ग रुकने आदि को लेकर शंका है मुझे फ़ोन कर सकते हैं  +917566384193

कहाँ रुकें: सबसे अच्छा है की आप कैंची धाम में ही रुक जाइए | वहाँ बहुत सारे होटल हैं लेकिन न्यू महिमा होम स्टे सर्वोत्तम है | मैं भी एक वर्ष से अधिक समय से वहीँ रुकता आ रहा हूँ और आपको भी यही सलाह देता हूँ | वहां के स्वामी का नाम श्री दिनेश तिवारी है और आप इन नम्बर्स पर उनसे संपर्क कर सकते हैं +918006303053and +917579033288. 
इस से आप कैंची और काकडी घाट दोनों ही स्थलों के दर्शन आराम से कर सकते हैं और भोजन की भी उत्तम व्यवस्था है | आपको लगेगा नहीं की घर के बाहर कहीं खाना खा रहे हैं | आप वहाँ रात रुक कर सुबह काकडी घाट जाकर वापस आ सकते हैं और शाम को कैंची धाम मंदिर के दर्शन भी कर सकते हैं | 
काकडी घाट पर रुकने के लिए कुमाऊं मंडल विकास निगम के सरकारी आवास पर इस लिंक के द्वारा कमरा बुक कर सकते हैं |
http://kmvn.in/hotels/details/trh-kakrighat



Comments

Popular posts from this blog

दिल्ली विधान सभा चुनाव २०२० कौन मारेगा बाजी : ज्योतिषीय आकलन

(यह लेख मेरे मूल अंग्रेजी लेख का गूगल हिंदी अनुवाद है मूल लेख के लिए यहाँ क्लिक करें   who will win 2020 delhi vidhan sabha election ) for horoscope consultation wattsapp only 7566384193 आज नई दिल्ली में चुनाव की तारीखें घोषित कर दी गई हैं। मुख्य प्रतियोगी AAP, BJP, INC हैं और मज़ेदार हैं कि वे न केवल वर्णानुक्रम में सही हैं, बल्कि वास्तविक स्थिति भी नई दिल्ली में हैं। आइए हम सभी तीनों पक्षों के बारे में कुछ बात करते हैं और मेरी यह "बात" केवल मीडिया समाचार रिपोर्टों पर आधारित है और मेरे विचार बिल्कुल व्यक्तिगत नहीं हैं। इसलिए, AAP के साथ शुरू करने के लिए अब आम आदमी या आम आदमी के लिए बहुत कुछ किया जा रहा है और वे अपने चुनावी वादों को लागू करने में बहुत सफल रहे हैं जैसा कि उनके फेस बुक पोस्ट और समाचार विज्ञापनों में बताया गया है। इसलिए मैं कहूंगा कि वे काम कर रहे हैं और अब जब मैं मीडिया को देखता हूं और लोग सामाजिक व्यस्तताओं पर बात करते हैं तो मैं इस पार्टी AAP के बारे में एक सकारात्मक शब्द सुनता हूं। दूसरी पार्टी में आना, जो कि भाजपा है जो पहले से ही केवल 6 राज्यों मे

मेनोपॉज़ या रजोनिवृत्ति के समय कैसे रखें ख़ुद का ख़याल

आज लेख की शुरुआत दोस्तों या मित्रों से नहीं प्रिय सहेलियों से करूँगी।क्योंकि बात मेरी और आपकी है।हर औरत के जीवन में कई पड़ाव आते हैं और हर पड़ाव को हम औरतें बख़ूबी निभाती है।मेनोपॉज़ या मासिक धर्म का बंद होना ये भी एक फ़ेज़ होता है।शारीरिक और मानसिक दोनों ही तौर पर एक बड़ा बदलाव हमारे जीवन में आता है।उम्र के उस मोड़ पर औरत होती है जब खुद का स्वास्थ्य परिवार बच्चे सभी आपको धीरे-धीरे छोड़ रहे होते हैं।बच्चे अपने जीवन में व्यस्त होने लगते हैं।पति की व्यस्तता परिवार को पालने के चरम पर होती है।और आपकी मौजूदगी बस उनकी ज़रूरतों तक सीमित हो जाती है। और शरीर का चल रहा सालो पुराना चक्र भी बिगड़ जाता है।जिससे एक अवसाद डिप्रेशन आपको घेर लेता है।चिड़चिड़ापन घबराहट ग़ुस्सा आना ये आपकी नई आदत बन जाता है।डॉक्टर के पास जाकर बिना बात के हॉर्मोन्स लेना कदापि कोई इलाज नहीं होता ये और एक बड़ी गलती आप करती हो।जब भी बढ़ती उम्र में पीरियड बिगड़ें तो    बस एक अल्ट्रासाउंड करवा लें कि सब ठीक है या नहीं और ३-४ महीने में इसे रिपीट करें।मेनोपॉज़ एक नैचुरल प्रोसेस है जो अपने तरीक़े से होना ही है।इसमें कोई

रेकी से पहला कैंसर का उपचार : सुधा रेकी

रेकी का तीसरे स्तर का शक्तिपात (Reiki level three attunement ) प्राप्त हुआ ही था की मुझे पता चला की मेरी सहेली ने एक दिन बताया की उसके पड़ोस में रहने वाले रहने वाली एक छह साल की बच्ची को कैंसर डिटेक्ट हुआ है Best Certified Reiki Products From Amazon Buy Now |  उसके ऊपरी मसूड़ों में कैंसर था जो की धीरे धीरे ऊपर की तरफ बढ़ रहा था | डॉक्टरों ने बोल दिया था की ऑपरेशन करना पड़ेगा लेकिंग बच्ची का चेहरा बिगड़ जाएगा और अगर उसको बढ़ने दिया तो जीवन अधिक शेष नहीं है |  मैंने अपने रेकी मास्टर से इसके बारे में बात करी लेकिन उन्होंने बहुत निराशाजनक उत्तर देकर बात को टाल दिया, लेकिन उन्होंने ही एक बार कहा था की एक रेकी हीलर को हर संभव प्रयास करना चहिये और मैंने करा भी यही Best Certified Reiki Products From Amazon Buy Now |  रेकी से ऊर्जान्वित करके मैंने अपनी सहेली के द्वारा उस बच्ची को पानी और क्रिस्टल माला भिजवाई और उसकी हीलिंग शुरू कर दी | जब जब बच्ची सोती तो उसकी माँ मुझे फोन करती और मैं उस बच्ची की हीलिंग करती |  डॉक्टरों ने कुछ मोहलत दी थी की अगर उस  बच्ची का कैंसर अगली जांच में और आ