Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2019

कैंचीधाम नीम करोली बाबा के स्थान में फ़ैल रही राजनितिक गन्दगी

जब हम पिछले वर्ष बाबाजी के स्थान पर गए थे तो वहाँ पर किसी भी व्यक्ति आदि का कोई पोस्टर बैनर नहीं लगा हुआ था | Neeem Karoli Baba Books By Amazonकोई दुकानदार , व्यापारी आदि बाबाजी के नाम से अपना कार्य प्रारंभ करते हैं तो अच्छी ही बात होती है क्योंकि यह उनका अपना विश्वास है | विश्वास से दुनिया कायम है |

लेकिन धीरे धीरे यह देखने में आने लगा की भारतीय जनता पार्टी के छोटे मोटे टटपुन्जिये छाप नेता अपनी शकल दिखवाने के लिए और लोगों पर ज़बरदस्ती अपने छवि बनाने के लिए अपने बैनर कट आउट पोस्टर आदि चिपकवाने लगे हैं और इस बार तो हद ही हो गयी | वहाँ इतने सारे राजनितिक लोगों के पोस्टर देखने को मिले और अधिकतर या कह लीजिये सभी भारतीय जनता पार्टी के नेता लोगों के ही थे |

अपने छुद्र अहंकार के प्रदर्शन के लिए यह दल वैसे Neeem Karoli Baba Books By Amazonभी सालों से जाना जाता है और इनके किसी पार्षद के भी जन्मदिन आदि के होने पर इनके चमचे बड़े बड़े पोस्टर लगवा देते हैं और अपनी मानसिक जाहिलता का परिचय देते हैं |

सिर्फ एक मोदी के नाम पर ही कितने फाल्रू लोग जिनको अपनी गले के कुत्तों का भी वोट नहीं मिल सकता वो सांसद…

Babaji Saves again: Miracles of Neem Karoli Babaji

It was 11th of May 2019, My train was scheduled from New Delhi to some place and from there I had to go to Amarkantak in search of Neem Karoli Babaji. It was a hot day and I was really not feeling good that day and there was something wrong in the day which I was not able to catch up with. A pigeon in a very bad shape came into the lawn and I saw it and thought he is going to die. 
Anyways, I got afraid because such a thing has never happened. I was now getting other thoughts like not going to the destination and the train was at 9 pm. Making a hard stand, I went to the station and slept well. I told to my friend also that this thing has happened and the reply was don`t worry Babaji will take care.
I also said in my heart that it is you who has to take care because my heart was really pounding with fear and anxiety. 
Morning came and I reached the destination. I got a call from the maid who cooks for all of us, she asked, "did you forgot to lock the door", and I was like NO…

The miracle continues: नीम करोली बाबा की एक और कृपा

जैसा कि मैं अपने हर बाबाजी के लेख में कहता हूँ की सिर्फ सत्य ही लिखूंगा और जो निजी है उसका वर्णन नहीं करूँगा इसमें भी पाठक सिर्फ सत्य की ही आशा करें किसी आडम्बर आदि की नहीं | Only the truth will be written here and some very personal details will be omitted.

हमेशा की तरह मेरे अभिन्न मित्र श्री अरुण शर्मा जी से एक दिन बात चल रही थी और उन्होंने अचानक ही कह दिया की अमरकंटक हो आइये | बाबाजी ने देह त्याग से पूर्व कहा था की वे अमरकंटक में जाकर रहेंगे पागल का भेस बनायेंगे और लोगों को डूंग (पत्थर ) से मारा करेंगे | बहुत दिनों से मैं जाना चाह रहा था और मुझे कहीं जाना था जहाँ से आगे अमरकंटक भी आता है | सब गूगल पे सर्च करा और एक होटल बुक करी और वापसी का टिकेट कन्फर्म नहीं था वेटिंग था | शर्मा जी क्योंकि पत्थर खिलवाने भेज रहे थे तो मैंने कहा की आप ही कन्फर्म करा के दो और हमेशा की तरह उन्होंने कह दिया की मैं सिर्फ प्रयास करूँगा होना न होना बाबाजी मी मर्ज़ी | मैंने कहा ठीक है आप प्रयास कर लेना = ये हर बार का ही रहता है |

बाकी का कथानक मेरे पिच्च्ले ब्लॉग में हैं | मैं अपने बाल्यकाल के मित्र सिद्धार…