Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2018

DAILY HOROSCOPE BY ACHARYA RAMAN 29-06-2018

Have A Great Day Ahead Greetings from Acharya Raman and Dr. Sudha  मेष के लिए पारिवारिक समस्या | घर के कामों के कारण व्यस्तता | यात्रा संभव | धन सम्बन्धी चिंता | वृषभ के लिए मानसिक शारीरिक स्वास्थ्य सम्बन्धी चिंता | पड़ोसियों से क्लेश संभव | अनिर्णय की स्थिति | मिथुन के लिए दुविधा | वाणी से कष्ट | धन हानि के योग | नयी वस्तु न लें | कर्क के लिए धन हानि | पारिवारिक सुख | मित्रों से लाभ | पैरों में कष्ट | सिंह के लिए कार्य सम्बन्धी व्यस्तता | विपरीत लिंग के जातक से हानि | शैय्या सुख की कामना प्रबल | कन्या के लिए धन लाभ | मित्रों से सहयोग| धन प्राप्ति की कामना | कुछ नया ले सकते हैं | तुला के लिए कार्यों में अड़चन | अहंकार से हानि | स्वार्थी होने से बचें | कार्य सम्बन्धी यात्रा | वृश्चिक के लिए धन प्राप्ति | पारिवारिक जीवन सामान्य | यात्रा की संभावना | मन में धर्म की इच्छा संभव | धनु के लिए अहंकार से हानि | मित्रों से हानि | अचानक अवरोध| गुप्तांगों की समस्या संभव | काम की प्रबलता संभव | मकर के लिए प्रेम सम्बन्ध के प्रति आसक्ति | कामाधिक्य | अनिद्र

Numerology class done by Geeta Bisht at Rohini New Delhi

where to learn numerology in Delhi,  Numerology class in Delhi, numerology classes, learning numerology, wattsapp 7566384193 for all process and details

Reiki Level 1 and 2 Done by Btech Student

Best Certified Reiki Products From Amazon Buy Now Reiki level 1 and 2 done by Abhishek Sharma Btech. Many congratulations for his bright future. Best Certified Reiki Products From Amazon Buy Now

Different charts same lives: Destiny plays it all

 Native born in 2000 A-1 Native born in 1974 S-1 Dear Readers, If you will look at the two horoscopes, you will find that planets are placed in the same houses, not all but some. Like Venus is in the third house, sun-Ketu in the fourth house, Mars in 6th house, mercury in 5th house and Rahu in 10th house. Let us see the similarities of the horoscope with respect to placement of the planets only and we will not dwell into the signs and ascendants and moon sign. Venus in the third house gives magnetic personality which used to be of S-1 and is of A-1. They both got proposals from the natives of opposite sex. Although the approach of both was different due to the change in the sign of Venus. Jupiter and moon together or opposite to each other cause the famous Gajkesari yoga which is present in both the horoscopes and S-1 has experienced the blessings of this yoga umpteen times when there was no one to help a divine help was always present. Mars is placed

success in love marriage प्रेम विवाह में सफलता

We always want to marry the person we love, when we do fall in love with some one. But falling in love is not very difficult, getting married tot he person is a difficult task in the first place itself. Below is the chart of a native: The KP Rule for love marriage says that if the 5th cusp sublord is significator of 7 and 11 then there will be a success in love marriage. In this horoscope the 5th cusp sublord is significator of  5th house , 11th house and 7th house thus it was a very easy love marriage decision for the both. The seventh cusp sublord is Mars placed in 5th house and it is aspecting the 11th house. It is in the sub of Jupiter which is the lord of 7th house thus Mars is connected with 7th and 11th house completing the equation. कृष्णमूर्ति पद्धति के अनुसार यदि पंचम भाव का उपनक्षत्र स्वामी सप्तम और लाभ का कार्येश है तो प्रेम विवाह होगा | इस कुंडली में पंचम भाव का उपनक्षत्र स्वामी मंगल है जो की स्वयं पंचम में बैठा है और लाभ को देख रहा है | मंगल गुरु के उपनक्षत्

कुंडली से कैसे देखिए जातक का चरित्र : कुंडली मिलान

एक ऐसी जातिका जिसका सम्पूर्ण जीवन अन्योन्य समबन्धों से परिपूर्ण रहा और आज भी है | अष्टम में स्थित मंगल बहुत ही वीभत्स मांगलिक दोष बनाता हुआ | अपने पति को छोड़ा , फिर अपने पहले आशिक़ को और अब दुसरे आशिक़ के साथ जीवन यापन | जातिका MBA है , स्वनक्षत्र का पंचमेश शुक्र गुरु के उपनक्षत्र में जो की अष्टमेश है , गुप्त संबंधों में प्रवीण इस जातिका की शिक्षा MANAGEMENT  में गुरु की नौवीं दृष्टि से संभव हुई और अभी यह एक बड़ी कंपनी के वाईस प्रेजिडेंट की पर्सनल सहायिका के तौर पर कार्यरत है |  चतुर्थ भाव का उपनक्षत्र स्वामी शुक्र स्वयं के नक्षत्र में होने से उच्च शिक्षा संभव -- दूसरा कारण | सप्तम का उपनक्षत्र स्वामी राहु केतु के नक्षत्र में - विजातीय संबंधों को प्रदर्शित करता हुआ , स्वयं सप्तमेश ही अष्टम में राहु के साथ अनैतिक संबंधों की चाह को बढ़ावा देता हुआ , साथ ही द्वादशेष गुरु से युति इच्छा को प्रबलता देती हुई , सप्तम भाव में चंद्र , मंगल, गुरु , शनि , राहु भाव चलित में अति कामुकता को प्रदर्शित करते हैं | एक बहुत ही अनैतिक चरित्र किन्तु साथ ही प्रबल कार्यक्षेत्र में सफलता के योग | स्वास्थ्य हानि क

Mr Jasmeet Supreme court lawyer Sharing his experience about the reiki class

Best Certified Reiki Products From Amazon Buy Now Best Certified Reiki Products From Amazon Buy Now