Learn KP Astrology Click Here

Sunday, 14 January 2018

सरल मृत्यु का मार्ग आसान कर देती है रेकी हीलिंग

Reiki Eases Death Process

बहुत समय पहले किसी पारिवारिक आयोजन में जाना हुआ था | वहाँ किसी वृद्ध को देख कर ध्यान आया की ये दूर के रिश्तेदार हैं | वो व्हीलचेयर पर थे और उनका पुत्र उनको लेके आ रहा था | उनकी आयु उतनी नहीं थी फिर भी उनका स्वास्थ्य बहुत खराब था | 

मैंने उनके बेटे से पुछा की क्या हो गया है तो उसने बताया की पिछले ढाई साल से इनका येही हाल है | एक एक्सीडेंट में उनके सर पे चोट लगी थी जिस से उनका pituitary gland  खराब हो गया और उनका शरीर धीरे धीरे निष्क्रिय होने लगा | सभी डॉक्टर मना कर चुके हैं | सब कुछ करने के बाद भी  कुछ फायदा नहीं है | 

मैंने उसको बोला की इस कष्ट से रेकी हीलिंग से मुक्ति मिल सकती है | जीवन को इस तरह घसीटने से बेहतर है की शांत होकर देह त्याग कर दिया जाए जिस से इस नारकीय जीवन से मुक्ति मिले | अगर तुमको ठीक लगता है तुम्हारी सहमती है तो मैं इनकी सरल मुक्ति के लिए हीलिंग करुँगी |  उसने भी मेरे सकारात्मक भाव से अपनी अनुमति दे दी | 

रेकी में ऐसा करने से पहले परिवार के सदस्यों की मुक्ति आवश्यक है और इसलिए मैंने उसकी अनुमति ली | मैंने उन रिश्तेदार की हीलिंग शुरू करी और पाया की उनके कार्मिक अवरोध | KARMIC BLOCKAGES| बहुत अधिक थे और मुझे पूरे २१ दिन लगे और उसके बाद ही वो मुक्त हो सके | 

आखिरी बार जब उनको रुग्णालय ले जाया गया तो वहाँ २ दिन भारती रहने के बाद वे मुक्त हो गए और मुझे भी इसकी खबर मिल गयी | 

कई लोगों के लिए मैंने यह हीलिंग करी है सिर्फ उसी शर्त पर जब और कोई रास्ता न हो और परिवार वालों की पूर्ण सहमती हो अन्यथा मैं ये हीलिंग नहीं करती हूँ | मेरा भाव यह रहता है की जब ठीक होने का कोई मार्ग नहीं बचा है तो फिर आगे जाने का मार्ग ही आसान हो जाये | 

व्यक्ति जब मृत्यु शैय्या पर होता है तो अपने कर्मो को ही भोग रहा होता है | जब तक कोई कर्म अटका हुआ रहता है जब तक व्यक्ति की मृत्यु संभव नहीं है और रेकी ही सबसे आसान तरीका है इन कर्मों के जंजाल से मुक्त होने का | 
मुक्त होते ही यह आत्मा अपने अगले शरीर की तरफ चली जाती है और मानव देह कष्ट से मुक्त हो जाती है | 
मैंने कई बार यह करा है और एक ग्लानी भी हो जाती है किन्तु यह सोच कर की शायद यह मुक्ति मेरे द्वारा ही लिखी गयी है | 



Dr. SUDHA: 9650008266


No comments:

Post a comment