Monday, 18 November 2019

नीम करोली महाराज जी का बुलावा: काकडी घाट मंदिर पर भंडारा १७.११.२०१९




(यह हिंदी गूगल से अनुवादित है और जहां मुझे गलती लगी वहां मैंने ठीक करने का प्रयास करा है फिर भी गलती रह ही गयी होगी जिसके लिए मैं अभी से क्षमा प्रार्थी हूँ )

(https://www.indiastroreiki.com/2019/11/neeb-karori-maharaj-calling-come-to.html) The original article in English

अपने सभी ब्लॉगों की तरह, मैं यह भी आश्वस्त करना चाहता हूं कि मैं जो भी कहूंगा, वह  सत्य होगा और अगर कोई त्रुटि / असत्य / झूट हो तो मैं महाराज जी से क्षमा मांगता हूं। 

कई साल पहले 2012 या 13 में, मुझे सही से याद नहीं है और कोई ज़रूरत नहीं है, मैं कोलर रोड भोपल के पास काली मंदिर गया, मुझे भूख लग रही थी, उन दिनों मैं "योगी कथामृत" में डूबा हुआ था और देवी जी  से बात कर रहा था । एक परिवार ने आकर माताजी को प्रसाद चढ़ाया। मुझे भूख लगी थी और मैंने माँ से कहा, आपने योगानंद जी को इतना कुछ दिया है कि क्या आप मुझे खाने के लिए सिर्फ कुछ दे सकती  हैं, और अगले ही पल, मैं अपनी आँखों को ठीक से झपका भी नहीं सका, मंदिर की महिला ने मुझे प्रसाद दिया। मैं  खुशी से भर गया और मेरे अंदर आनंद आ गया और मुझे वह घटना याद आ गई जब परमहंस योगानंदजी अपने जीजा के साथ काली जी मंदिर जाते हैं और उनके जीजा जी ने देवी जी का मजाक बनाया कि अगर देवी उनकी इतनी देखभाल करती हैं तो वह हमारे खाने की व्यवस्था भी करेंगी क्या ? और तुरंत ही मंदिर के पुजारी महोदय आते दीखते हैं  और कहते है कि सभी के लिए पर्याप्त भोजन है क्योंकि यह किसी कारण से उस दिन बना था और यह सब  का भोजन आराम से हो सकता है। उस दिन के बाद से उनके जीजा भक्त बन गए  और क्रिया योग के एक उच्च कोटि के साधक बने।
17.11.2019 को काकड़ीघाट उत्ताराखंड में आज मेरे साथ ऐसा ही कुछ हुआ
 यह नवंबर 2019 की 13 तारीख थी, मैं उस दिन किसी कारण से कैंची धाम में था और श्री दीपक नामक व्यक्ति से मिला। वह बहुत व्यस्त दिख रहे  थे और मैं जो कुछ कह रहा था उसका पालन करने के मूड में नहीं थे क्योंकि उसके आसपास के लोग सब्जी पैक कर रहे थे और मैंने उत्सुकता से पूछा कि यह सब क्या है और उसने कहा कि यह काकड़ी घाट पर भंडारे के लिए है। जाहिर तौर पर मैंने पूछा कि यह कब है और मुझे बताया गया कि यह 16 और 17 नवंबर को है और इसका आयोजन कैंची धाम  मंदिर ट्रस्ट और स्थानीय दुकानदारों ने मिलकर किया था।
"भगवान की कृपा से ही आपको भगवान की याद आती है" - रमन महर्षि

मैं  16 और 17 वीं तारीख को वहां जाने की योजना बना रहा था, लेकिन दूरी और समय की कमी के कारण मैंने फैसला किया कि मैं 17 तारीख को वहां रहूंगा। मैं 12  बजे की  में बस में चढ़ गया था और मेरे दिमाग में सिर्फ खाने को लेकर उत्सुकता थी और कोई दूसरा विचार बिल्कुल नहीं था। बस कुछ ही मिनटों के बाद एक ऐसी जगह पर रुकी, जहाँ ये बसें दोपहर के भोजन के लिए रुकती थीं और ड्राइवर ने यहाँ केवल 30 मिनट कहा। मैं भूखा था। मैं नीचे उतर गया, वहाँ एक और बस आगे खड़ी थी और अचानक वह शुरू हो गई। तो मैंने कंडक्टर से पूछा कि यह काकड़ी घाट जायेगी या नहीं और उसने कहा हां और मैं अंदर था।

मैं १२:३० बजे वहाँ पहुँच गया और मैं  मैंने केवल भोजन के बारे में कहा। बहुत से लोग खा रहे थे और मैं भी उनके साथ शामिल हो गया। मैं सोच रहा था कि मैं समय से हूँ , लेकिन मुझे नहीं पता था कि मैं वास्तव में किस समय हूं और बाद में इसका खुलासा होना था।



मैंने भरपेट भोजन करा मोटापे के कारण नीचे बैठ कर पूरा नहीं खाया जाता फिर भी मैं महाराज जी के भंडारे में जन्मो के भूखे जैसे ही खाता हूँ | लोग वहां अपनी थाली स्वयं खाने के बाद फेंकने जा रहे थे | मैं फेंकने के  क्षेत्र में अपनी थाली फेंकने के लिए उठने ही वाला था कि एक वृद्ध व्यक्ति आये और मुझसे पूछा कि मैं मेरा भोजन हुआ की नहीं और मैंने कहा हाँ और उन्होंने  मेरी प्लेट ले ली !!! मैंने उनसे ऐसा न करने के लिए कहा क्योंकि यह अच्छे शिष्टाचार में नहीं है कि लेकिन वे नहीं माने  मैं सुंदरकांड सुन रहा था जो कि कैंची धाम मंदिर की प्रसिद्ध जोड़ी द्वारा गाया जा रहा था।


"दो वृद्ध लोग हैं जिनसे मैं व्यक्तिगत रूप से नहीं मिला हूं, लेकिन वे एक साथ मंदिर में हनुमान चालीसा और अन्य पाठ गाते हैं और वर्षों से ऐसा कर रहे हैं। वे इतने उत्साह और आवृत्ति में हैं कि उन्हें सुनना भी एक आनंद है। वे इसमें इतने डूब जाते हैं कि मेरे जैसे सामान्य व्यक्ति के लिए यह असंभव है। अगर आप कैंची धाम
उत्तराखंड में आते हैं तो उनको अवश्य सुनिए , वे इसे आमतौर पर शाम को करते हैं। "


जब कभी वे गाते हैं तो आपके सामने होने वाली पूरी घटना को महसूस करते हैं, आप इसे बिना किसी बल या दृढ़ता अथवा परिश्रम  के कल्पना कर सकते हैं। वही मेरे साथ हो रहा था, श्री राम चरित मानस सुंदरकांड की कुछ चौपाइयाँ हैं जो मुझे बहुत पसंद हैं और मैं उन्हें पूरे कान और दिल से सुनने का इंतजार कर रहा था। मैं सोमवारी महाराज मंदिर की ओर गया और वहीं बैठ गया। और कुछ समय बाद मैंने उन चौपाइयों को सुना और कुछ भी अधिक आवश्यक नहीं था।



भंडारे में चल रहे सुंदर काण्ड की झलक यहाँ सुनें
 और भी कुछ होने वाला था।

मैं नीचे बने शिवजी के मंदिर में गया और वहीं बैठ गया। एक यज्ञ चल रहा था और पुजारी सभी के सिर पर सिंदूर लगा रहे थे । और पवित्र धागा वहाँ हर एक की दाहिनी कलाई पर बाँधा जा रहा था। मैं मंदिर की सीढ़ियों पर बैठा था। और मेरे मन में यह विचार आया कि महाराज जी जब आप मुझे यहां लेकर आए हैं तो यह भी आप ही करेंगे और जैसा कि मैं सोच रहा था कि एक सज्जन ने टीका की थाली ली और मेरी ओर मुखातिब हुए और अहंकार ने मुझे घेर लिया। अगले ही पल उन्होंने मुँह फेर लिया। (इस एक क्षण में जो हुआ वो सिर्फ मुझे ही समझ आया मेरे मन में अहम् का आना उन सज्जन का मेरी तरफ मुड़ना एक पल देखना और मुह मोड़ लेना - इस किसी शब्द में नहीं समझाया जा सकता सिर्फ महाराज जी की लीला को महसूस करा जा सकता है  जैसे वानर बने हुए नारद जी को सिर्फ वही राजकुमारी और शिव के गण  जो वहां उपस्थित थे  वोही देख पाए )और हँसी मेरे चेहरे और दिमाग में आ गई। 


आज मैं राम चरित मानस का पाठ कर रहा था और नारद का प्रसंग आज समाप्त हो गया जहाँ नारद के अहंकार को मारने के लिए भगवान विष्णु उन्हें वानर का मुख देते हैं। और मैं केवल महाराज जी को धन्यवाद दे रहा था कि वह मुझे हर जगह अपनी उपस्थिति दिखाते रहे  और मैं वहाँ बैठ गया और जब मैं सामान्य स्थिति में आया, तो एक और सज्जन आये जो कि मुझे जानते थे किन्तु वह मुझसे आम तौर पर बात नहीं करते है,और वो पता नहीं कहाँ से आ गए  वह यज्ञ की भस्म की थाली लेकर आये और मेरे माथे पर उसका टीका लगाया। मैं अवाक था!!! कुछ मिनटों के बाद एक और व्यक्ति जो मुझे नहीं जानता था वह सिन्द्दोर चावल की  थाली ले आये और पूछा कि क्या मुझे टीका चाहिए और मैंने कहा हाँ :-)

ये महाराज जी की लीलाएं हैं और कुछ नहीं। जब आपके पास कोई ईगो प्राउडनेस नहीं है और बस सादगी है तो महाराजजी आपकी ही हैं।


"निर्मल मन जान मोहि पावा मोहे कपट छल छिद्र न भावा" महाराज जी ने मुझे बहुत ही सरल तरीके से समझाया। और यह हमेशा उनकी ही जिम्मेदारी है की वे मुझे सदा  बिना "कपट छल छिद्र" के रखें क्योंकि हम कभी नहीं जानते कि बुरी भावनाएं हमें कब खत्म कर देंगी, आप या मैं कोई अपवाद नहीं हैं।


मुझे नहीं पता कि क्या कहना है और क्या लिखना है, आज मेरे दिमाग में बहुत सारी बातें आ रही थीं। अगर मुझे और याद होगा तो मैं इस ब्लॉग में जोड़ूंगा।
 


  
 कैसे पहुँचे काकड़ी घाट उत्तराखंड: काकड़ी घाट, भवाली से लगभग 37 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जैसा कि उत्तराखंड रोडवेज के सरकारी सड़क परिवहन विभाग के दूरी बोर्ड में बताया गया है। आपको काठगोदाम रेलवे स्टेशन पर उतरने की आवश्यकता है और वहाँ से आपको कई शेयर टैक्सी, फुल टैक्सी, बसें मिलेंगी- यह अल्मोड़ा जाने के लिए राजमार्ग पर स्थित है इसलिए अल्मोड़ा जाने वाली कोई भी बस वहाँ से जाएगी, बस कंडक्टर को ड्रॉप करने के लिए कहेंगे आप काकड़ी घाट जाना  हैं और वह आपको उतार देंगे , साथ ही 12 से 15 बैठने की क्षमता वाली शेयर जीप भी हैं।

शुल्क: टैक्सी में लगभग 1 k से 1.5 k, शेयर टैक्सी में 300 लगेगा, बस में 100 लगेंगे, शेयर  जीप में 130 -140 कुछ लगेगा। आप बस छोड़ कर बाकी सब में मोल भाव भी कर सकते हैं |


अगर आप कैंची या ककड़ी घाट या प्रयागराज या वृन्दावन या महरोली या गुप्त मंदिर जाना चाहते हैं और कुछ मार्ग रुकने आदि को लेकर शंका है मुझे फ़ोन कर सकते हैं  +917566384193

कहाँ रुकें: सबसे अच्छा है की आप कैंची धाम में ही रुक जाइए | वहाँ बहुत सारे होटल हैं लेकिन न्यू महिमा होम स्टे सर्वोत्तम है | मैं भी एक वर्ष से अधिक समय से वहीँ रुकता आ रहा हूँ और आपको भी यही सलाह देता हूँ | वहां के स्वामी का नाम श्री दिनेश तिवारी है और आप इन नम्बर्स पर उनसे संपर्क कर सकते हैं +918006303053and +917579033288. 
इस से आप कैंची और काकडी घाट दोनों ही स्थलों के दर्शन आराम से कर सकते हैं और भोजन की भी उत्तम व्यवस्था है | आपको लगेगा नहीं की घर के बाहर कहीं खाना खा रहे हैं | आप वहाँ रात रुक कर सुबह काकडी घाट जाकर वापस आ सकते हैं और शाम को कैंची धाम मंदिर के दर्शन भी कर सकते हैं | 
काकडी घाट पर रुकने के लिए कुमाऊं मंडल विकास निगम के सरकारी आवास पर इस लिंक के द्वारा कमरा बुक कर सकते हैं |
http://kmvn.in/hotels/details/trh-kakrighat



No comments:

Post a Comment