Saturday, 18 January 2020

Miracle of Love: Maharaj ji reunites two lovers again !!!

Due to identity issue I will not name the two persons and cities. As I always say that I will speak truth and only truth. If there is something wrong or Lie in this what I am about to write below I just seek forgiveness from My love Maharaj ji. :-)

Few months back, I was in Kainchi with many people and we actually brought a whole van of people to kainchi dham. it was around 9 pm or may be 8 pm. I got a call "is this acharya raman" so i said yes I am. then he said he wanted a consultation and what are your charges so i said xxxx Inr are my charges. and he did paytm and the question was that what is going on, He was living with a sweet girl since past 3-4 or 4-5 years I do not remember now and suddenly that girl went away and there is a third person and she is mentally disturbed etc.
So I saw the horoscopes and told him that in coming months it can be corrected etc. That was it.

There was a Gap of some days or weeks but he called me again and he was desperate he was literally crying and a grown up doing like this makes you feel bewildered yourself. I said come and meet me let us talk. He came to me and I said I can do Reiki for you and xxxxx are my charges. He said okay and we parted ways, I told him clearly that there is no guarantee and I am not a bangali baba etc. do not expect miracles and my past experience is good in this so I am telling you. If you wish you can pay and we can proceed.

That was done. After few days he asked me for my account number and I gave him. So he said who is this person, I said this is me only. Siddhartha saxena. Acharya Raman is my name is astrology and why it is so etc I told him, So he said fine and when I will get my salary I will transfer it.

That was also done although he was very much sure that I am going to run away with his money worth xxxxx. But I did Reiki and Sudha ji also did for him because I told her that this has to happen no matter what. so she said it will be I will try my best.

I am now again going to hide few facts, just hide , not lie about anything at all. 

I was at a place and Mr x called me and weeping. So I told him come to kainchi dham. I am here and we will go together to pray to My Love Maharaj JI.

He was till then also very skeptical but the force of his love was so strong he took a chance. !!! And that night was like hell for me. I kept calling in the morning and suddenly his call came that he is in
kainchi.
Since there is network issue he could not communicate. all done till now. 
So he came to where I was available. all useless things I am not disclosing. that is not termed as lie. I am not telling worthless things. 
So we met and we went to Kainchi Dham. 

As we entered the premises I started weeping like a child after few minutes and he was already having a big broken heart and he was like "It is my girlfriend not yours why are you weeping types(and I am not going to disclose that why also)" , and it happens many times when I go there and now i feel that it is my false ego that make me do it to impress maharaj ji, 
My dear friend Arun sharma ji has ben so kind me give me books to sort out where your Ego is manipulating you. I thank him always for being my Friend and my railway minister :-)

So now I have understood That all I do there is basically "swaang" " natak" "bhaandpana" but I feel it is also his wish that I am doing it there. And I do not want to impress any one except my dear Love Maharaj ji, Pyaar mein thoda bahut jhoot to chal jaata hai. who knows this is my false ego again telling me to write this things again. 
 So Mr X had the darshan and due to my crying he actually got confused who is the beggar here he or me hahahha. 
But I told him come in the evening also in tha aashram and sit there, this he said today in the morning, so I am writing, I do not remember the previous day itself until unless some one pushes it, So he said that he came in the evening also and recited sidhi maa book there and then went back to his hotel.

                                     MIRACLE OF LOVE
It was few days back I got a message from him on new year wish I think. So i called him but he didn`t picked up the phone as he might me be busy and yesterday his message came that I was busy etc so i said No issue. So told him to call me at 12 and at sharp 12 he called  but I was busy else where and I told him that when I get free I will call you back. 
                                       THE MIRACLE OF MAHARAJ JI   

HE SAID JUST AFTER I WENT FROM KAINCHI DHAM THINGS CHANGED AND Y IS TALKING TO ME AND WE ARE BACK ON TRACK AND THE GUY WHO WAS IN BETWEEN IS NO WHERE NOW!!!!!!!!!!!

AS DADAJI SAID "BY HIS GRACE" BY THE GRACE OF MY LOVE TOO MAHARAJ JI.

And I will literally not say that I wish good or bad for these x and Y BECAUSE IT WILL BE BE EGO AGAIN PLAYING HIS FILTHY GAME. BUT AS A PERSON I WANT THEM TO GET MARRIED SOON. MCDOWELL RUM PLYING IN NOW STILL HE HOLDING ME. 
 REGULAR I AM.

IF YOU HAVE TRUE LOVE THEN WAIT BOW TO MAHARAJ JI AND SIDDHI MAA ALL WILL DONE. REMOVE YOUR "I" PAST PRESNT EVERYTHING. AND THEN SEE.  

  



Monday, 6 January 2020

दिल्ली विधान सभा चुनाव २०२० कौन मारेगा बाजी : ज्योतिषीय आकलन

(यह लेख मेरे मूल अंग्रेजी लेख का गूगल हिंदी अनुवाद है मूल लेख के लिए यहाँ क्लिक करें   who will win 2020 delhi vidhan sabha election)

आज नई दिल्ली में चुनाव की तारीखें घोषित कर दी गई हैं। मुख्य प्रतियोगी AAP, BJP, INC हैं और मज़ेदार हैं कि वे न केवल वर्णानुक्रम में सही हैं, बल्कि वास्तविक स्थिति भी नई दिल्ली में हैं। आइए हम सभी तीनों पक्षों के बारे में कुछ बात करते हैं और मेरी यह "बात" केवल मीडिया समाचार रिपोर्टों पर आधारित है और मेरे विचार बिल्कुल व्यक्तिगत नहीं हैं।

इसलिए, AAP के साथ शुरू करने के लिए अब आम आदमी या आम आदमी के लिए बहुत कुछ किया जा रहा है और वे अपने चुनावी वादों को लागू करने में बहुत सफल रहे हैं जैसा कि उनके फेस बुक पोस्ट और समाचार विज्ञापनों में बताया गया है। इसलिए मैं कहूंगा कि वे काम कर रहे हैं और अब जब मैं मीडिया को देखता हूं और लोग सामाजिक व्यस्तताओं पर बात करते हैं तो मैं इस पार्टी AAP के बारे में एक सकारात्मक शब्द सुनता हूं।

दूसरी पार्टी में आना, जो कि भाजपा है जो पहले से ही केवल 6 राज्यों में हार गई है क्योंकि उनके पास करिश्माई नेता नहीं हैं जैसे एक बार कांग्रेस के पास हुआ करते थे और वे एक दो आदमी पार्टी नहीं हैं और विडंबना ग्राम पंचायत चुनावों में भी है उनके तथाकथित "नेता" व्यापक जनता के लिए केंद्र द्वारा की गई चीजों का उपयोग कर रहे हैं और स्थानीय मुद्दे पूरी तरह से उपेक्षित हैं। एक ग्राम पंचायत चुनाव में पीएम के नाम का क्या उपयोग होता है। बड़े नेताओं के लिए उनके आडंबर में डूब गए हैं जो फिलिप कोटलर ने अपने विपणन के 4 पीए में वर्णित किया है जिसे "मार्केटिंग मायोपिया" कहा जाता है या कोई इसे आसानी से तीसरी कक्षा के शुद्ध अहंकार के रूप में मान सकता है और कुछ नहीं, यह राय बनाई गई है टीवी, फेसबुक पोस्ट, अभिमानी आवाज़ और झूठे अहंकार से भरे उनके नेताओं को देखकर। और कश्मीर से कन्याकुमारी तक पूरी भाजपा में लोकप्रिय जोड़ी को छोड़कर कोई तीसरा नाम नहीं है।  और वे इस बात के लिए नई दिल्ली चुनाव जीतने की इच्छा रखते हैं कि नई दिल्ली में कई भैय्या हैं।

कांग्रेस में आ रहे हैं, यह एक सच्चाई है कि श्रीमती शीला दीक्षित ने दिल्ली के लिए बहुत कुछ किया था और वह नहीं थीं कि सीएम दिल्ली बहुत पहले ही ध्वस्त हो गई थी। उनके प्रयास वास्तविक थे और जनता के लिए लेकिन वह AAP की लहर और सत्ता विरोधी लहर के शिकार हो गए। अन्य बुद्धिमान अब भी जब मैं दिल्ली के लोगों से बात करता हूं तो हर कोई स्वर्गीय की प्रशंसा करता है। शीला दीक्षित जी। कांग्रेस में कोई चेहरा नहीं है और वे उसी सड़क पर हैं, जहां भाजपा ने आरएसपी यानी राहुल सोनिया प्रियंका को हर जगह उनके सिर पर बिठाया है।
यह समाचार क्लिपिंग और मीडिया की कहानियों और सोशल मीडिया पोस्ट से मेरी सभा है जो सही हो सकती है या नहीं भी हो सकती है और मुझे इस बात में कोई दिलचस्पी नहीं है कि दिल्ली के सीएम कौन बनेगा, इस तथ्य के अलावा कि यह एक ज्योतिषीय विषय भी है, इसलिए मैं अपनी जानकारी दे रहा हूं उसी के लिए भविष्यवाणी।
aaj naee dillee mein chunaav kee taareekhen ghoshit kar dee gaee hain. mukhy pratiyogee aap, bjp, inch hain aur mazedaar hain ki ve na keval varnaanukram mein sahee hain, balki vaastavik sthiti bhee naee dillee mein hain. aaie ham sabhee teenon pakshon ke baare mein kuchh baat karate hain aur meree yah "baat" keval meediya samaachaar riporton par aadhaarit hai aur mere vichaar bilkul vyaktigat nahin hain.
isalie, aap ke saath shuroo karane ke lie ab aam aadamee ya aam aadamee ke lie bahut kuchh kiya ja raha hai aur ve apane chunaavee vaadon ko laagoo karane mein bahut saphal rahe hain jaisa ki unake phes buk post aur samaachaar vigyaapanon mein bataaya gaya hai. isalie main kahoonga ki ve kaam kar rahe hain aur ab jab main meediya ko dekhata hoon aur log saamaajik vyastataon par baat karate hain to main is paartee aap ke baare mein ek sakaaraatmak shabd sunata hoon.
doosaree paartee mein aana, jo ki bhaajapa hai jo pahale se hee keval 6 raajyon mein haar gaee hai kyonki unake paas karishmaee neta nahin hain jaise ek baar kaangres ke paas hua karate the aur ve ek do aadamee paartee nahin hain aur vidambana graam panchaayat chunaavon mein bhee hai unake tathaakathit "neta" vyaapak janata ke lie kendr dvaara kee gaee cheejon ka upayog kar rahe hain aur sthaaneey mudde pooree tarah se upekshit hain. ek graam panchaayat chunaav mein peeem ke naam ka kya upayog hota hai. bade netaon ke lie unake aadambar mein doob gae hain jo philip kotalar ne apane vipanan ke 4 peee mein varnit kiya hai jise "maarketing maayopiya" kaha jaata hai ya koee ise aasaanee se teesaree kaksha ke shuddh ahankaar ke roop mein maan sakata hai aur kuchh nahin, yah raay banaee gaee hai teevee, phesabuk post, abhimaanee aavaaz aur jhoothe ahankaar se bhare unake netaon ko dekhakar. aur kashmeer se kanyaakumaaree tak pooree bhaajapa mein lokapriy jodee ko chhodakar koee teesara naam nahin hai.aur ve is baat ke lie naee dillee chunaav jeetane kee ichchha rakhate hain ki naee dillee mein kaee bhaiyya hain.

kaangres mein aa rahe hain, yah ek sachchaee hai ki shreematee sheela deekshit ne dillee ke lie bahut kuchh kiya tha aur vah nahin theen ki seeem dillee bahut pahale hee dhvast ho gaee thee. unake prayaas vaastavik the aur janata ke lie lekin vah aap kee lahar aur satta virodhee lahar ke shikaar ho gae. any buddhimaan ab bhee jab main dillee ke logon se baat karata hoon to har koee svargeey kee prashansa karata hai. sheela deekshit jee. kaangres mein koee chehara nahin hai aur ve usee sadak par hain, jahaan bhaajapa ne aaresapee yaanee raahul soniya priyanka ko har jagah unake sir par bithaaya hai.
yah samaachaar kliping aur meediya kee kahaaniyon aur soshal meediya post se meree sabha hai jo sahee ho sakatee hai ya nahin bhee ho sakatee hai aur mujhe is baat mein koee dilachaspee nahin hai ki dillee ke seeem kaun banega, is tathy ke alaava ki yah ek jyotisheey vishay bhee hai, isalie main apanee jaanakaaree de raha hoon usee ke lie bhavishyavaanee.


The chart is casted on 6 JAN 2020, TIME:17:58, COORDINATES: 79E27/ 29N23. Below is the horoscope. 



I am using a different kind of system here which used to predict the win of Kejriwal over Sheila dixit way back in 2013 or 14 I don’t remember. The ruling planets as per the horoscope are, I am taking the lagna star lord too,
Ls: Jupiter = 21
Lagna: Mercury = 9
Moon Star Lord = Sun =5
Moon sign Lord =Mars =9
Day Lord = Moon =4
The total is 57. Becaue I have added 9 more as Rahu is present in the Lagna and since it is in Gemini it will be given 9 points.
Here we will divide 57 by 3  and we will now get 19. We will again reduce 3 from 19 till we reach to a single digit and the remainder we get is 1.
At no.1 the political party is AAP so AAP is going to win the election in February 2020. Best of luck to all parties.

 मुझसे कुंडली परामर्श के लिए  7566384193 पर wattsapp  करें 

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020

दिल्ली विधानसभा चुनाव कब है

2020 विधानसभा चुनाव

दिल्ली विधानसभा चुनाव कब होंगे

दिल्ली में विधानसभा चुनाव कब होंगे

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 date


Monday, 23 December 2019

Neem Karoli Maharaj ji accepts the woolen cap hand woven by Sudha ji

राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम

It was since long Sudha ji wished to weave a cap and present it to Maharaj ji and on one trip to Kainchi recently she went to the temple and it was afternoon and the pujari ji was not there. there was some other person doing the things and she offered the cap and asked whether it can be given to maharaj ji immediately? The person replied that it will be given tomorrow morning Maharaj ji wears new clothes from the morning and not at this hour. It was around 12 pm or 2 pm i dont remember exactly and sorry for this mistake of mine. So he kept the cap on maharaj ji`s lap and we came back from there and she was willing deeply that Maharaj ji should accept the cap. 
This is not the same cap but the one she offered to maharaj ji was made with the same wool and everything but it did not had the spiral design. She tried to capture the moment but photography is restricted there so the picture was not taken but the satisfaction is there that Maharaj JI accepted it.

On the way back while crossing the small bridge we saw the regular pujari ji and offered our pranams and Sudha ji asked him whether Maharaj ji can wear the cap now and he said why not !!!! So he said come with me and we went back and he covered the head of maharaj ji that time itself. It was the wish of Maharaj ji and he wanted to wear it and bestow his grace on her as she has made it by her hands. 
It was not a co-incidence that the pujari ji was coming back at the same time when we were leaving the premises it was all the love and grace of Maharaj ji BY HIS GRACE :-) 

राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम

Saturday, 21 December 2019

नौकरी कब मिलेगी : कृष्णामूर्ति पद्धित विश्लेषण

नौकरी पाना हमेशा मुश्किल होता है और जब करियर की शुरुआत होती है तो एक विजयी लकीर के साथ शुरुआत करना बेहद जरूरी होता है। 2000 में पैदा हुए इस मूल निवासी को नौकरी मिल गई क्योंकि वह एथिकल हैकिंग में मास्टर है और एथिकल हैकिंग के लिए कई प्रस्तुतियां और कक्षाएं कर रहा है। वह नई दिल्ली से हैं। एथिकल हैकिंग सीखने के लिए बहुत बढ़ती धारा बन गई है और लोग इसमें शानदार काम कर रहे हैं। हालांकि वह पहले पूर्णकालिक नौकरी रोल पर नहीं थे। कई कंपनियां और अब कई तरह की निजी और सरकारी एजेंसियां ​​चाहती हैं कि हैकर्स उनके ऐप या वेबसाइट में बग ढूंढ सकें। इस प्रकार कोई आश्चर्य नहीं कि यदि आप इसे जल्दी सीखते हैं तो आप इस धारा में अपने बाद के जीवन में महान कार्य करेंगे। जितना अधिक आप जानेंगे उतना ही अधिक पैसा आप कमाएंगे।

यहाँ का मूल निवासी तुला लग्न और मेष चन्द्रमा है। वह वर्तमान में 11-05-2020 तक शुक्र की महादशा चला रहा है और वर्तमान अंतराणु केतु का है जो कि अंतिम अंतरा है। केतु को सूर्य के तारे में तीसरे और शुक्र के उप में रखा गया है। मैंने इस मूल के माता-पिता को एक साल पहले बताया था कि जब यह केतु शुरू होगा तो आपका बेटा काम करना शुरू कर देगा। उसने केतु अंतरा से आगे की कमाई शुरू कर दी, लेकिन उसके पास पूर्णकालिक नौकरी नहीं थी। 7 दिसंबर 2020 को उन्हें एक साक्षात्कार का सामना करना पड़ा और 9 दिसंबर को नियुक्ति पत्र के साथ नियुक्ति पत्र दिया गया जिसमें 16 दिसंबर 2020 तक शामिल होने की तारीख थी।

बृहस्पति प्रतिहार चल रहा है। बृहस्पति 6 वें भाव में है। यह केतु के तारे में और राहु के उप में है। केतु चार्ट में तीसरे भाव में और 9 वें में राहु है। राहु और केतु दोनों शुक्र के उप में हैं जो तीसरे घर में है। केतु शत्रु सूर्य है और राहु इसके स्वामी हैं और सूर्य 11 वें भाव का स्वामी है।
उन्हें 9 दिसंबर को नियुक्ति पत्र मिला जब सूरज बुध के तारे और चंद्रमा के उप में गोचर कर रहा था। 16 तारीख को सूर्य शामिल होने के दिन केतु के उप में थे और अंतरा स्वामी। सूर्य बृहस्पति धनु राशि में है। 7 दिसंबर 2020 को सूर्य बुध के तारे और शुक्र के उप में गोचर कर रहा था। शुक्र महशा दशा स्वामी है। इस प्रकार हम देखते हैं कि पूरा इंटरव्यू, अपॉइंटमेंट और ज्वाइनिंग का दिन सूर्य या तो महादशा या अंतरा या प्रत्यंतर या उन दोनों से जुड़ा था। यही कारण है कि केपी Ssystem में एक घटना को इंगित करने के लिए सूर्य का पारगमन इतना महत्वपूर्ण है।
भुगतान प्रक्रिया पूरी करके आप मुझसे अपने प्रश्न भी पूछ सकते हैं। 7566384193 पर मुझे वाट्सएप करें।


naukaree paana hamesha mushkil hota hai aur jab kariyar kee shuruaat hotee hai to ek vijayee lakeer ke saath shuruaat karana behad jarooree hota hai. 2000 mein paida hue is mool nivaasee ko naukaree mil gaee kyonki vah ethikal haiking mein maastar hai aur ethikal haiking ke lie kaee prastutiyaan aur kakshaen kar raha hai. vah naee dillee se hain. ethikal haiking seekhane ke lie bahut badhatee dhaara ban gaee hai aur log isamen shaanadaar kaam kar rahe hain. haalaanki vah pahale poornakaalik naukaree rol par nahin the. kaee kampaniyaan aur ab kaee tarah kee nijee aur sarakaaree ejensiyaan ​​chaahatee hain ki haikars unake aip ya vebasait mein bag dhoondh saken. is prakaar koee aashchary nahin ki yadi aap ise jaldee seekhate hain to aap is dhaara mein apane baad ke jeevan mein mahaan kaary karenge. jitana adhik aap jaanenge utana hee adhik paisa aap kamaenge.
yahaan ka mool nivaasee tula lagn aur mesh chandrama hai. vah vartamaan mein 11-05-2020 tak shukr kee mahaadasha chala raha hai aur vartamaan antaraanu ketu ka hai jo ki antim antara hai. ketu ko soory ke taare mein teesare aur shukr ke up mein rakha gaya hai. mainne is mool ke maata-pita ko ek saal pahale bataaya tha ki jab yah ketu shuroo hoga to aapaka beta kaam karana shuroo kar dega. usane ketu antara se aage kee kamaee shuroo kar dee, lekin usake paas poornakaalik naukaree nahin thee. 7 disambar 2020 ko unhen ek saakshaatkaar ka saamana karana pada aur 9 disambar ko niyukti patr ke saath niyukti patr diya gaya jisamen 16 disambar 2020 tak shaamil hone kee taareekh thee.
brhaspati pratihaar chal raha hai. brhaspati 6 ven bhaav mein hai. yah ketu ke taare mein aur raahu ke up mein hai. ketu chaart mein teesare bhaav mein aur 9 ven mein raahu hai. raahu aur ketu donon shukr ke up mein hain jo teesare ghar mein hai. ketu shatru soory hai aur raahu isake svaamee hain aur soory 11 ven bhaav ka svaamee hai.
unhen 9 disambar ko niyukti patr mila jab sooraj budh ke taare aur chandrama ke up mein gochar kar raha tha. 16 taareekh ko soory shaamil hone ke din ketu ke up mein the aur antara svaamee. soory brhaspati dhanu raashi mein hai. 7 disambar 2020 ko soory budh ke taare aur shukr ke up mein gochar kar raha tha. shukr mahasha dasha svaamee hai. is prakaar ham dekhate hain ki poora intaravyoo, apointament aur jvaining ka din soory ya to mahaadasha ya antara ya pratyantar ya un donon se juda tha. yahee kaaran hai ki kepee ssystaim mein ek ghatana ko ingit karane ke lie soory ka paaragaman itana mahatvapoorn hai.
bhugataan prakriya pooree karake aap mujhase apane prashn bhee poochh sakate hain. 7566384193 par mujhe vaatsep karen.

sarkari naukri by date of birth

sarkari naukri ka yog in kundli by date of birth

sarkari naukri ke yog kaise bante hai

rashi ke anusar naukri

kundli mein naukri

sarkari naukri yoga

sarkari naukri by date of birth in hindi

government job yog in my kundli free




Wednesday, 27 November 2019

Reiki class done at Faridabad Haryana

Taruna Arora and Namita Banga did Reiki class by Dr. Sudha Reiki
Today on 27-11-2019, Reiki class was conducted at Faridabad where Taruna Arora and Namita Banga participated and got their Reiki level 1 & 2 certificates. You can also learn Reiki at your home by just giving us a call, only for women candidates we teach at your home if it is not very far away and also you can learn Reiki at our center near ashram and at Mayur Vihaar New Delhi.
#Reiki #reikiclassinfaridabad #bestreikiteacher #reikicertificate #reikiclassesathome

Monday, 18 November 2019

नीम करोली महाराज जी का बुलावा: काकडी घाट मंदिर पर भंडारा १७.११.२०१९




(यह हिंदी गूगल से अनुवादित है और जहां मुझे गलती लगी वहां मैंने ठीक करने का प्रयास करा है फिर भी गलती रह ही गयी होगी जिसके लिए मैं अभी से क्षमा प्रार्थी हूँ )

(https://www.indiastroreiki.com/2019/11/neeb-karori-maharaj-calling-come-to.html) The original article in English

अपने सभी ब्लॉगों की तरह, मैं यह भी आश्वस्त करना चाहता हूं कि मैं जो भी कहूंगा, वह  सत्य होगा और अगर कोई त्रुटि / असत्य / झूट हो तो मैं महाराज जी से क्षमा मांगता हूं। 

कई साल पहले 2012 या 13 में, मुझे सही से याद नहीं है और कोई ज़रूरत नहीं है, मैं कोलर रोड भोपल के पास काली मंदिर गया, मुझे भूख लग रही थी, उन दिनों मैं "योगी कथामृत" में डूबा हुआ था और देवी जी  से बात कर रहा था । एक परिवार ने आकर माताजी को प्रसाद चढ़ाया। मुझे भूख लगी थी और मैंने माँ से कहा, आपने योगानंद जी को इतना कुछ दिया है कि क्या आप मुझे खाने के लिए सिर्फ कुछ दे सकती  हैं, और अगले ही पल, मैं अपनी आँखों को ठीक से झपका भी नहीं सका, मंदिर की महिला ने मुझे प्रसाद दिया। मैं  खुशी से भर गया और मेरे अंदर आनंद आ गया और मुझे वह घटना याद आ गई जब परमहंस योगानंदजी अपने जीजा के साथ काली जी मंदिर जाते हैं और उनके जीजा जी ने देवी जी का मजाक बनाया कि अगर देवी उनकी इतनी देखभाल करती हैं तो वह हमारे खाने की व्यवस्था भी करेंगी क्या ? और तुरंत ही मंदिर के पुजारी महोदय आते दीखते हैं  और कहते है कि सभी के लिए पर्याप्त भोजन है क्योंकि यह किसी कारण से उस दिन बना था और यह सब  का भोजन आराम से हो सकता है। उस दिन के बाद से उनके जीजा भक्त बन गए  और क्रिया योग के एक उच्च कोटि के साधक बने।
17.11.2019 को काकड़ीघाट उत्ताराखंड में आज मेरे साथ ऐसा ही कुछ हुआ
 यह नवंबर 2019 की 13 तारीख थी, मैं उस दिन किसी कारण से कैंची धाम में था और श्री दीपक नामक व्यक्ति से मिला। वह बहुत व्यस्त दिख रहे  थे और मैं जो कुछ कह रहा था उसका पालन करने के मूड में नहीं थे क्योंकि उसके आसपास के लोग सब्जी पैक कर रहे थे और मैंने उत्सुकता से पूछा कि यह सब क्या है और उसने कहा कि यह काकड़ी घाट पर भंडारे के लिए है। जाहिर तौर पर मैंने पूछा कि यह कब है और मुझे बताया गया कि यह 16 और 17 नवंबर को है और इसका आयोजन कैंची धाम  मंदिर ट्रस्ट और स्थानीय दुकानदारों ने मिलकर किया था।
"भगवान की कृपा से ही आपको भगवान की याद आती है" - रमन महर्षि

मैं  16 और 17 वीं तारीख को वहां जाने की योजना बना रहा था, लेकिन दूरी और समय की कमी के कारण मैंने फैसला किया कि मैं 17 तारीख को वहां रहूंगा। मैं 12  बजे की  में बस में चढ़ गया था और मेरे दिमाग में सिर्फ खाने को लेकर उत्सुकता थी और कोई दूसरा विचार बिल्कुल नहीं था। बस कुछ ही मिनटों के बाद एक ऐसी जगह पर रुकी, जहाँ ये बसें दोपहर के भोजन के लिए रुकती थीं और ड्राइवर ने यहाँ केवल 30 मिनट कहा। मैं भूखा था। मैं नीचे उतर गया, वहाँ एक और बस आगे खड़ी थी और अचानक वह शुरू हो गई। तो मैंने कंडक्टर से पूछा कि यह काकड़ी घाट जायेगी या नहीं और उसने कहा हां और मैं अंदर था।

मैं १२:३० बजे वहाँ पहुँच गया और मैं  मैंने केवल भोजन के बारे में कहा। बहुत से लोग खा रहे थे और मैं भी उनके साथ शामिल हो गया। मैं सोच रहा था कि मैं समय से हूँ , लेकिन मुझे नहीं पता था कि मैं वास्तव में किस समय हूं और बाद में इसका खुलासा होना था।



मैंने भरपेट भोजन करा मोटापे के कारण नीचे बैठ कर पूरा नहीं खाया जाता फिर भी मैं महाराज जी के भंडारे में जन्मो के भूखे जैसे ही खाता हूँ | लोग वहां अपनी थाली स्वयं खाने के बाद फेंकने जा रहे थे | मैं फेंकने के  क्षेत्र में अपनी थाली फेंकने के लिए उठने ही वाला था कि एक वृद्ध व्यक्ति आये और मुझसे पूछा कि मैं मेरा भोजन हुआ की नहीं और मैंने कहा हाँ और उन्होंने  मेरी प्लेट ले ली !!! मैंने उनसे ऐसा न करने के लिए कहा क्योंकि यह अच्छे शिष्टाचार में नहीं है कि लेकिन वे नहीं माने  मैं सुंदरकांड सुन रहा था जो कि कैंची धाम मंदिर की प्रसिद्ध जोड़ी द्वारा गाया जा रहा था।


"दो वृद्ध लोग हैं जिनसे मैं व्यक्तिगत रूप से नहीं मिला हूं, लेकिन वे एक साथ मंदिर में हनुमान चालीसा और अन्य पाठ गाते हैं और वर्षों से ऐसा कर रहे हैं। वे इतने उत्साह और आवृत्ति में हैं कि उन्हें सुनना भी एक आनंद है। वे इसमें इतने डूब जाते हैं कि मेरे जैसे सामान्य व्यक्ति के लिए यह असंभव है। अगर आप कैंची धाम
उत्तराखंड में आते हैं तो उनको अवश्य सुनिए , वे इसे आमतौर पर शाम को करते हैं। "


जब कभी वे गाते हैं तो आपके सामने होने वाली पूरी घटना को महसूस करते हैं, आप इसे बिना किसी बल या दृढ़ता अथवा परिश्रम  के कल्पना कर सकते हैं। वही मेरे साथ हो रहा था, श्री राम चरित मानस सुंदरकांड की कुछ चौपाइयाँ हैं जो मुझे बहुत पसंद हैं और मैं उन्हें पूरे कान और दिल से सुनने का इंतजार कर रहा था। मैं सोमवारी महाराज मंदिर की ओर गया और वहीं बैठ गया। और कुछ समय बाद मैंने उन चौपाइयों को सुना और कुछ भी अधिक आवश्यक नहीं था।



भंडारे में चल रहे सुंदर काण्ड की झलक यहाँ सुनें
 और भी कुछ होने वाला था।

मैं नीचे बने शिवजी के मंदिर में गया और वहीं बैठ गया। एक यज्ञ चल रहा था और पुजारी सभी के सिर पर सिंदूर लगा रहे थे । और पवित्र धागा वहाँ हर एक की दाहिनी कलाई पर बाँधा जा रहा था। मैं मंदिर की सीढ़ियों पर बैठा था। और मेरे मन में यह विचार आया कि महाराज जी जब आप मुझे यहां लेकर आए हैं तो यह भी आप ही करेंगे और जैसा कि मैं सोच रहा था कि एक सज्जन ने टीका की थाली ली और मेरी ओर मुखातिब हुए और अहंकार ने मुझे घेर लिया। अगले ही पल उन्होंने मुँह फेर लिया। (इस एक क्षण में जो हुआ वो सिर्फ मुझे ही समझ आया मेरे मन में अहम् का आना उन सज्जन का मेरी तरफ मुड़ना एक पल देखना और मुह मोड़ लेना - इस किसी शब्द में नहीं समझाया जा सकता सिर्फ महाराज जी की लीला को महसूस करा जा सकता है  जैसे वानर बने हुए नारद जी को सिर्फ वही राजकुमारी और शिव के गण  जो वहां उपस्थित थे  वोही देख पाए )और हँसी मेरे चेहरे और दिमाग में आ गई। 


आज मैं राम चरित मानस का पाठ कर रहा था और नारद का प्रसंग आज समाप्त हो गया जहाँ नारद के अहंकार को मारने के लिए भगवान विष्णु उन्हें वानर का मुख देते हैं। और मैं केवल महाराज जी को धन्यवाद दे रहा था कि वह मुझे हर जगह अपनी उपस्थिति दिखाते रहे  और मैं वहाँ बैठ गया और जब मैं सामान्य स्थिति में आया, तो एक और सज्जन आये जो कि मुझे जानते थे किन्तु वह मुझसे आम तौर पर बात नहीं करते है,और वो पता नहीं कहाँ से आ गए  वह यज्ञ की भस्म की थाली लेकर आये और मेरे माथे पर उसका टीका लगाया। मैं अवाक था!!! कुछ मिनटों के बाद एक और व्यक्ति जो मुझे नहीं जानता था वह सिन्द्दोर चावल की  थाली ले आये और पूछा कि क्या मुझे टीका चाहिए और मैंने कहा हाँ :-)

ये महाराज जी की लीलाएं हैं और कुछ नहीं। जब आपके पास कोई ईगो प्राउडनेस नहीं है और बस सादगी है तो महाराजजी आपकी ही हैं।


"निर्मल मन जान मोहि पावा मोहे कपट छल छिद्र न भावा" महाराज जी ने मुझे बहुत ही सरल तरीके से समझाया। और यह हमेशा उनकी ही जिम्मेदारी है की वे मुझे सदा  बिना "कपट छल छिद्र" के रखें क्योंकि हम कभी नहीं जानते कि बुरी भावनाएं हमें कब खत्म कर देंगी, आप या मैं कोई अपवाद नहीं हैं।


मुझे नहीं पता कि क्या कहना है और क्या लिखना है, आज मेरे दिमाग में बहुत सारी बातें आ रही थीं। अगर मुझे और याद होगा तो मैं इस ब्लॉग में जोड़ूंगा।
 


  
 कैसे पहुँचे काकड़ी घाट उत्तराखंड: काकड़ी घाट, भवाली से लगभग 37 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जैसा कि उत्तराखंड रोडवेज के सरकारी सड़क परिवहन विभाग के दूरी बोर्ड में बताया गया है। आपको काठगोदाम रेलवे स्टेशन पर उतरने की आवश्यकता है और वहाँ से आपको कई शेयर टैक्सी, फुल टैक्सी, बसें मिलेंगी- यह अल्मोड़ा जाने के लिए राजमार्ग पर स्थित है इसलिए अल्मोड़ा जाने वाली कोई भी बस वहाँ से जाएगी, बस कंडक्टर को ड्रॉप करने के लिए कहेंगे आप काकड़ी घाट जाना  हैं और वह आपको उतार देंगे , साथ ही 12 से 15 बैठने की क्षमता वाली शेयर जीप भी हैं।

शुल्क: टैक्सी में लगभग 1 k से 1.5 k, शेयर टैक्सी में 300 लगेगा, बस में 100 लगेंगे, शेयर  जीप में 130 -140 कुछ लगेगा। आप बस छोड़ कर बाकी सब में मोल भाव भी कर सकते हैं |


अगर आप कैंची या ककड़ी घाट या प्रयागराज या वृन्दावन या महरोली या गुप्त मंदिर जाना चाहते हैं और कुछ मार्ग रुकने आदि को लेकर शंका है मुझे फ़ोन कर सकते हैं  +917566384193

कहाँ रुकें: सबसे अच्छा है की आप कैंची धाम में ही रुक जाइए | वहाँ बहुत सारे होटल हैं लेकिन न्यू महिमा होम स्टे सर्वोत्तम है | मैं भी एक वर्ष से अधिक समय से वहीँ रुकता आ रहा हूँ और आपको भी यही सलाह देता हूँ | वहां के स्वामी का नाम श्री दिनेश तिवारी है और आप इन नम्बर्स पर उनसे संपर्क कर सकते हैं +918006303053and +917579033288. 
इस से आप कैंची और काकडी घाट दोनों ही स्थलों के दर्शन आराम से कर सकते हैं और भोजन की भी उत्तम व्यवस्था है | आपको लगेगा नहीं की घर के बाहर कहीं खाना खा रहे हैं | आप वहाँ रात रुक कर सुबह काकडी घाट जाकर वापस आ सकते हैं और शाम को कैंची धाम मंदिर के दर्शन भी कर सकते हैं | 
काकडी घाट पर रुकने के लिए कुमाऊं मंडल विकास निगम के सरकारी आवास पर इस लिंक के द्वारा कमरा बुक कर सकते हैं |
http://kmvn.in/hotels/details/trh-kakrighat



Sunday, 17 November 2019

Neeb Karori Maharaj Calling :Come to kakdi ghat and have my bhandara



Like all of my blogs, I want to reassert that what ever I will say will be the truth to best of my knowledge and if there are any errors I beg to Maharaj ji to forgive me.  

hindi mein padhne ke liye yahaan click karein  

Many years back in 2012 or 13, I do not remember correctly and there is no need to, I went to Kali temple near kolar road bhopal, I was feeling hungry, those days I was immersed in Autobiography of a Yogi and was talking to Goddess Kali ji. A family came and offered prasad to Mataji. I was hungry and I said to Maa, you gave so much to yoganand ji can`t you give me just something to eat, and the next moment, I could not even blink my eyes properly, The lady in the temple Took the thali and offered the prasad to me. I was all tears joy and bliss came out inside of me and I remembered the incident when Paramhans Yoganandji goes to kali ji temple with his brother in law and his brother in law mocks at the Goddess that if your goddess is so caring will she give us something to et and suddenly the priest of the temple comes out and says that there is ample food for the all becasue it was for some reason made that day and all can have it. Since that day his brother in law became a devotee and became a sadhaka of the kriya yoga.

Some thing like that happened with me today at kakdi ghat uttarakhand on 17.11.2019 

It was 13th of November 2019, I was in kainchi dham that day for some reason and met a person called Mr Deepak. He was looking very busy and was in no mood to adhere to what I was saying as there were people around him packing vegetables and I just asked curiously what is all this all about and he said this is for the bhandara at Kakdi ghat. Obviously I asked when is it and I was told it is in the 16th and 17th of November and It was organised by Kainchi Dham Temple Trust and the local shop keepers together.
"It is only by the grace of God that You remember God" -- Raman Maharshi
I was only planning to go there on 16th and 17th both but due to distance and time constraints I decided I will be there on 17th. I got into the bus at 12 and I was hungry with only food in my mind had no other thought absolutely. The bus stopped just after few minutes at a place where these buses stop for lunch and the driver said 30 minutes here only. I was hungry. I got down, there was another bust standing just ahead and suddenly it started. So I asked the conductor whether this will go to Kakdi ghat or not and he said yes and I was in.  
I reached there at 12:30 and I was thinking as I said only of food. Many people were eating and I also joined them. I was thinking that I am just in time but I didin`t knew what time I am in actually and it was to be revealed later. 

I had food till full belly and I saw people were carrying there plates to throw off outside the premises.  I was just about to get up to throw off my plate in the waste area and an old man came and asked me whether I am done or not and I said yes and he took my plate!!! I tried to grab him to not to do it as it is not in good manners that such an old person is doing it but he went away. I was listening to sunderkand which was being sung by the famous duo of the Kainchi Temple.

"There are two old men whom I have not met in person but they together sing Hanuman chalisa and other paath at the temple and have been doing it for years. They are so in rythm and frequency that it is a bliss to listen them doing the paath. They get so immersed in it that it seems impossible for a commoner like me to be in that state ever in my life. if you do come to Kainchi dham uttarakhand do have a listen, they do it usually in the evening"

When ever they sing you feel the entire thing happening in front of you, you can imagine it without any force or persuation. Same was happening with me, there are some chaupayees of Shri Ram Charit Manas Sunderkand which I like a lot and I was waiting to hear them with all ears and heart. I went down towards the somvari maharaj temple and sat there. And after some time I heard those choupayees and nothing more was required. 

More was about to come.

I went to the Shivji temple and sat there. There was a yagya going on and the priest was putting the vermillion on everyone`s fore head. and the sacred thread was being tied on the right wrist of every one there. I was sitting on the stairs of the temple. And this thought came to my mind that maharaj ji when you have brought me here then you only will put the tika on my fore head and tie the thread and just as I was thinking A genntleman took the thali of the tika and turned towards me and Ego surrounded me. The next moment he turned his face away. And laughter came to my face and mind becasue today Only I was reciting Ram charit manas and the narada prasang finished today where to kill the Ego of Narada Lord Vishnu gives him the face of a monkey. And I was only thanking Maharaj Ji to show me his presence every where. And I sat there and when I came to normalcy, another GentleMan came there from no where who is known to me adn does not usually talks to me, he came with the thali of the bhasm of the yagya and applied it on my fore head. I was speechless!!! after a few minutes another person who does not know me took tha thali and came to me and asked whether I want the tika and I said Yes :-)  These are the lilas of Maharaj ji nothing else. When you have no Ego Proudness and just have simplicity Maharaji Ji is all yours. 

              "निर्मल मन जन सो मोहि पावा मोहे कपट छल छिद्र न भावा" Maharaj ji explained this to me in a very simple way. and It is up to him only to keep me without "
कपट छल छिद्र" because we never know when the bad feelings will over power us, you or me are no exception. 

I dont know what to say and what to write, so many things were coming in my mind today. If I will remember more I will add in this blog. 
How To Reach Kakdi Ghat Uttarakhand: Kakdi Ghat is located around 37 kilometers from bhowali as told in the distance board of the Government road transport department of Uttarakhand roadways. You need to get down at Kathgodam Railway Station and from there you will get many share taxi, full taxi , buses- It is situated on the highway to Almora so any bus going to Almora will go from there, just tell the bus conductor to drop you at kakdi ghat and he will do so, also there are sahred jeeps with 12 to 15 sitting capacity.
Charges: The taxi will take around 1 k to 1.5 k , share taxi will take 300, bus will take 100, share jeep will take 130 -140 something.

Where to stay: The best palce to stay is at Kainchi dham itself. Hotel New Mahima is the best for home stay and the owner Shri Dinesh Tiwari ji can be called at +918006303053and +917579033288.

Stay there in the evening and go to kakdi ghat in the morning and come back by afternoon or evening as per your wish.
There is a goverment Tourist stay home at Kakdi Ghat http://kmvn.in/hotels/details/trh-kakrighat you can click this link and book a stay online on the government of uttarakhand kumaun mandal vikas nigam web site.
  

 If you are planning to go to Kakdi Ghat, Hanuman Gadhi , Bhumiyadhar , Vrindavan , PrayagRaj and have some doubt or confusion related to your travel or stay then you can call me at +917566384193



Pictography of today`s bhandara:
 
 सोमवारी महाराज जी की गुफा ऊपर वाली




 सोमवारी महाराज जी की गुफा नीचे अन्दर वाली